Silly signs…

The signs were distinct, playfully teased my instinct.But I was bitten and shy,I knew better, I did. That cuckoos coo, even when the spring is far ahead. The crows caw on the window, but no one might visit your shed.

Consume me, cleanse me, heal me.

There are some waves that touch your soul a little bit.Some not much at all.  There are waves that soak you, with all the dirt it’s got.As you live and breathe, waves will come and go.  Me, I am here at this shore.. ..waiting for a wave that will consume me..cleanse me.. heal me.  ... Continue Reading →

गुलज़ार

सावन की रात दक्षिण की हवा चलती हैराह नहीं मिलती। जो चाहा था वो भूल हुई, जो पाया है वो चाहा नहीं। मैं घूमता हूँमैं घूमता हूँ मैं घूमता हूँ - Poem by Gulzar.

Come back…

Come back.Leave your mark on my lips,and mess up my hair. Mend the soul you broke, and restore my being. Then go away and never return.

अक्सर भूल जाते हैं हम फ़ज्र  के इरादे मग़रिब तक, मानो यूँ की रोज़ असर होते होते, ज़िंदगी दस्तक दे देती है।   

I could be a lighthouse keeper.

Once a beacon of light, now a tourist spot.No, not the temple.  The lighthouse that once showed harbour to ships on stormy nights.  Now it beckons land travellers and photographers like me who look for stillness in the backdrop of tides.  I could be a lighthouse keeper. I could trim the wicks.  I too, do... Continue Reading →

"A whole day of darkness,at night, came forth the light. Colors, shying under the sun, now came alive."

ज़िंदगी तो तब भी होती…

ख़ुद पे यक़ीन था उस पंछी को, दिल का भी पक्का था।  फिर भी अक्सर, अपनी परछाईं पानी में देखता,तो सोचता कि ये पंख और बड़े होते तो कितना अच्छा होता।फिर ख़ुद ही को समझाता, कि पंख होते ही ना, ज़िंदगी तो तब भी होती।  मायूस हो जाता था ख़ुद से कभी कभी, कुछ ना करता, कई दिन तक उड़ान... Continue Reading →

बहार और ख़िज़ाँ

दायमी नहीं, ये बहार चंद रोज़ की है,लुत्फ़ उठा लो, इसपे इतराना कैसा।पलक झपकते जब ख़िज़ाँ आएगी,तो ग़ुरूर खुद-ब-खुद छूट जाएगा।तब थोड़ा रो लेना, पर घबराना कैसा।सर्दी की खुश्की में धूप सेकना।धीमी सी आँच में फुल्ले फेंकना।खुली आँखों से हक़ीक़त तो देख ली,अब बंद आँखों से ख़्वाब भी देखना।बहार ने तो मुड़ कर आना ही... Continue Reading →

Powered by WordPress.com.

Up ↑

<span>%d</span> bloggers like this: